10TH SCIENCE JAIV PRAKRAM SUBJECTIVE QUESTION 2022

10TH SCIENCE JAIV PRAKRAM SUBJECTIVE QUESTION 2022

10TH SCIENCE JAIV PRAKRAM SUBJECTIVE QUESTION 2022

Bihar Board Science Jaiv prakarm Subjective Questions

[ 1 ] श्वसन किसे कहते हैं ?

Ans ⇒ स्वसन वैसे क्रियाओं के सम्मिलित रूपों को कहते हैं। जिसमें बाहरी वातावरण से ऑक्सीजन ग्रहण कर शरीर की कोशिकाओं में पहुंचाया जाता है।

 स्वसन को दो प्रकार में बांटा गया है।

(i) अवायवीय श्वसन  श्वसन की प्रक्रिया जिसमें गुलकोज का विखंडन (आंशिक) ऑक्सीजन के अनुपस्थिति में होता है। उसे अवायवीय श्वसन कहते हैं।

(ii) वायवीय स्वसन  शोषण की वह प्रक्रिया जिसमे गुलकोज का विखंडन ऑक्सीजन की उपस्थिति में होता है। उसे वायवीय स्वसन कहते हैं।

[ 2 ] अवायवीय श्वसन और वायवीय स्वसन में अंतर स्पष्ट करें।

अवायवीय श्वसन

वायवीय स्वसन

 अवायवीय श्वसन ऑक्सीजन की   अनुपस्थिति  में होता है।

वायवीय स्वसन ऑक्सीजन की उपस्थिति में होता है।

 अवायवीय श्वसन केवल कोशिका द्रव में   होता है।

वायवीय स्वसन कोशिका द्रव्य एवं माइट्रोकांड्रिया में होता है।

 इसमें गुलकोज का आंशिक विखंडन होता   है।

इसमें गुलकोज का पूर्ण विखंडन होता है।

 इसमें कम ऊर्जा मुक्त होती है।

वायवीय स्वसन में ज्यादा ऊर्जा मुक्त होता है।

[ 3 ] पौधों में श्वसन किस प्रकार होता है ?

Ans ⇒ पौधों में श्वसन विसरण के द्वारा होता है। वायुमंडल के पतियों के रंध्रों एवं तने पर उपस्थित वातरंध्रों द्वारा पौधों में प्रवेश करती है। पौधों की जड़े मिट्टी के कणो के बीच से हवा मुक्त करती है। स्वसन क्रिया के पश्चात पौधे गैस वायुमंडल में छोड़ते हैं। दिन में कार्बन डाइऑक्साइड गैस का प्रयोग पौधे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में करते हैं। क्योंकि रात में प्रकाश संश्लेषण की क्रिया नहीं होती है। अतः स्वसन में कार्बन डाइऑक्साइड गैस रंध्रों के द्वारा बाहर निकलती है।

[ 4 ] पौधे में गैसों का आदान प्रदान कैसे होता है ?

Ans ⇒पौधों में गैसों का आदान प्रदान उनकी पतियों में उपस्थित रंध्र के द्वारा होता है। उनके कार्बन डाइऑक्साइड एवं ऑक्सीजन का आदान-प्रदान विसरण क्रिया द्वारा होता है। जिसकी दिशा पौधे के आवश्यकता एवं पर्यावरणीय अवस्थाओं पर निर्भर करती है।

[ 5 ] पित्त क्या है ? मनुष्य के पाचन में इसका क्या महत्व है ?
Ans ⇒ पित्र अप्रत्यक्ष रूप से भोजन के पाचन में भाग नहीं लेता है। लेकिन इसमें विभिन्न प्रकार के रसायन होते हैं जो पाचन क्रिया में काफी सहायता करते हैं।

पित्त रस निम्नलिखित महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

(i) यह अमाशय से आए भोजन के अम्लीय प्रभाव को छारीय बनाता है।

(ii) यह वसा में घुलनशील विटामिनों के अवशोषण में सहायक होता है।

(iii) यह जीवाणुओं को मारता है तथा इसकी उपस्थिति में ही अग्नाशय रस कार्य करता है।

कक्षा 10 जैव प्रक्रम Subjective question answer

[ 6 ] स्वसन तथा स्वासोच्छवास में क्या अंतर है ?

स्वसन

स्वासोच्छवास

यह क्रिया कोशिका के भीतर होती है

यह क्रिया कोशिका के बाहर होती है

इसमें एंजाइमों की आवश्यकता होती है।

इसमें एंजाइमों की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

[ 7 ] उत्सर्जन क्या है ? मानव में इसके दो प्रमुख अंगों के नाम लिखें।

Ans ⇒ शरीर में उपापचय क्रियाओं द्वारा बने अपशिष्ट पदार्थों का शरीर से बाहर निकालने की क्रिया को उत्सर्जन कहा जाता है। इनके दो महत्वपूर्ण उत्सर्जन अंग है- वृक्क और फेफड़ा।

[ 8 ] मनुष्य में उत्सर्जन किस प्रकार होता है लिखें।

Ans ⇒ मनुष्य के सबसे महत्वपूर्ण उत्सर्जित अंग किडनी (वृक्क) है। वृक्क से संबंधित अन्य रचनाएं भी उत्सर्जन का कार्य करती है।
वह सभी निम्नलिखित हैं।
(i) मूत्र वाहिनी(Urinary duct)
(ii) मूत्राशय (Urinary blader)
(iii) मूत्र मार्ग (Urinary tract)

[ 9 ] रुधिर और लसीका में अंतर स्पष्ट करें।

रुधिर

लसीका

 (i) यह लाल रंग का होता है।

(i) यह रंगहीन एवं हल्के पीले रंग का होता है।

 (ii) इसमें हीमोग्लोबिन होता है।

(ii) इसमें हिमोग्लोबिन नहीं पाया जाता है।

 (iii) इस में लाल रक्त कणिकाएं श्वेत रक्त   कणिकाएं और रुधिर पट्टीकाएं होती है।

(iii) इसमें कणिकाएं नहीं होती है।

 (iv) यह ह्रदय से अंगों तक रहता है। और   वापिस आ जाता है

(iv) यह केवल एक ही दिशा में बहता है। अर्थात उत्तको से हृदय की ओर।

  इसमें सभी प्रकार के रक्त प्रोटीन पाए   जाते  हैं।

(v) यह शरीर के कोशिकाओं को नहलाता है।

[ 10 ] पौधों में वाष्पोत्सर्जन क्या है ? इसके महत्व को लिखे।

Ans ⇒ पौधे में पत्नियों के क्षेत्रों से जलवास्प के रूप में जल का बाहर निकलना वाष्पोत्सर्जन कहा जाता है।

इनके निम्नलिखित महत्व है।

(i) यह जल अवशोषण को नियमित करता है।
(ii) पौधों में तापमान संतुलित रखता है।
(iii) रसारोहण के प्रति उत्तरदाई होता है।

[ 11 ] रक्त क्या है ?

Ans ⇒ यह एक प्रकार का तरल संयोजी उत्तक है। जिसका मूल्य कार्य परिवहन है। मानव रक्त में आरबीसी की संख्या 45-50 लाख प्रति घन मिली रक्त होता है।

[ 12 ] लाल रक्त कोशिका (R.B.C) क्या है ?

Ans ⇒ यह विशेष प्रकार के प्रोटीन वर्णक हिमोग्लोबिन का बना होता है। इसके कारण ही खून का रंग लाल होता है। हिमोग्लोबिन स्वसन के द्वारा लिए ऑक्सीजन से संजीव करके ऑक्सि हीमोग्लोबिन बनाता है। तथा संपूर्ण भाग में पहुंचाता है।

[ 13 ] श्वेत रक्त कोशिकाएं (W.B.C) क्या है ?

Ans ⇒ यह अनियमित आकार की केंद्रक युक्त कोशिकाएं होती है। इसमें कोई वर्णक नहीं पाया जाता है। जिसके कारण यह रंगहीन होता है। इसकी संख्या W.B.C से बहुत कम होती है।

10TH SCIENCE JAIV PRAKRAM SUBJECTIVE QUESTION 2022

Science

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *